Uncategorized

2001 के संसद हमले के 20 साल: पीएम मोदी, राष्ट्रपति कोविंद ने दी श्रद्धांजलि0

  • December 13, 2021
  • 1 min read
  • 319 Views
[addtoany]
2001 के संसद हमले के 20 साल: पीएम मोदी, राष्ट्रपति कोविंद ने दी श्रद्धांजलि0

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और केंद्रीय मंत्रियों ने सोमवार को 2001 में आज के दिन संसद हमले के दौरान जान गंवाने वाले लोगों को श्रद्धांजलि दी।

रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सुरक्षा कर्मियों का “सर्वोच्च बलिदान” देश को प्रेरित करता है। मोदी ने ट्वीट किया, “मैं उन सभी सुरक्षा कर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं जो 2001 में संसद हमले के दौरान ड्यूटी के दौरान शहीद हुए थे। राष्ट्र के लिए उनकी सेवा और सर्वोच्च बलिदान हर नागरिक को प्रेरित करता है।”

राष्ट्रपति कोविंद ने लिखा, “मैं उन बहादुर सुरक्षा कर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं जिन्होंने 2001 में आज ही के दिन एक नृशंस आतंकवादी हमले के खिलाफ दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की संसद की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी। राष्ट्र उनके सर्वोच्च बलिदान के लिए हमेशा उनका आभारी रहेगा।” ट्विटर पे।

गृह मंत्री अमित शाह ने भी हमले में मारे गए लोगों को होमपेज दिया। “कायरतापूर्ण आतंकवादी हमले में भारतीय लोकतंत्र के मंदिर – संसद भवन – की रक्षा के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले सभी सैनिकों के साहस और वीरता को मैं सलाम करता हूं। आपकी अद्वितीय वीरता और बलिदान हमें हमेशा राष्ट्र की सेवा करने के लिए प्रेरित करेगा।”

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया: “2001 में संसद भवन पर हमले के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले उन बहादुर सुरक्षाकर्मियों को मेरी श्रद्धांजलि। देश कर्तव्य के दौरान उनके साहस और सर्वोच्च बलिदान के लिए आभारी रहेगा।”

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी, किरेन रिजिजू, कांग्रेस नेता गौरव गोगोई ने भी श्रद्धांजलि दी।

13 दिसंबर 2001 को संसद पर आतंकवादियों ने हमला किया था। राज्यसभा की संसद सुरक्षा सेवा के दो व्यक्तियों, दिल्ली पुलिस के पांच कर्मियों और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की एक महिला कांस्टेबल ने संसद भवन भवन के अंदर आतंकवादियों के प्रवेश को रोकते हुए अपनी जान दे दी। हमले में सीपीडब्ल्यूडी के एक माली की भी मौत हो गई।

सुरक्षाबलों ने पांचों आतंकियों को ढेर कर दिया। इस घटना से भारत और पाकिस्तान के बीच उच्च स्तर का तनाव पैदा हो गया और संसद की सुरक्षा में बड़े पैमाने पर सुधार हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *