Uncategorized

हरियाणा में मिली 1,600 साल पुरानी एक ऐसी जगह, जो लुप्त होती सरस्वती नदी के आसपास ‘निरंतर बसावट’ का दावा करती है

  • December 1, 2021
  • 1 min read
  • 252 Views
[addtoany]
हरियाणा में मिली 1,600 साल पुरानी एक ऐसी जगह, जो लुप्त होती सरस्वती नदी के आसपास ‘निरंतर बसावट’ का दावा करती है

पुरातत्वविदों ने यमुनानगर जिले के हरियाणा के संधाई गांव में एक 1600 साल पुरानी साइट का पता लगाया है, जो पौराणिक सरस्वती नदी के आसपास विकसित हुई मानव बस्तियों से जुड़ी थी। पुरातत्त्वविदों ने अपनी खोज में इस बात के प्रमाण पाए कि संभवतः स्थल एक धार्मिक स्थान था और उसका एक मंदिर था।

एक ग्रामीण बलविंदर सिंह द्वारा गांव के एक पुराने किले में छह प्राचीन सिक्के मिलने की सूचना मिलने के बाद राज्य पुरातत्व विभाग और हरियाणा विरासत विकास बोर्ड के अधिकारियों ने साइट का दौरा किया। प्रारंभिक खुदाई के बाद 33 सिक्के मिले। पाए गए आवास के अन्य प्रमाण मिट्टी के बरतन, ईंटें आदि हैं।

राज्य के एक वरिष्ठ पुरातत्वविद् ने इंडियन एक्सप्रेस की पुष्टि की कि उस स्थान पर मानव बस्ती के प्रमाण मिले थे और धार्मिक स्थल के भी संकेत हैं। पत्थरों का एक और नागर शैली का मंदिर भी स्थित था। निर्माण के आधार से संबंधित स्तंभ और अन्य सामग्री के साक्ष्य भी मिले हैं। पुरातत्वविद इसे 1200 से 1600 साल पुरानी जगह कह रहे हैं, जिसका मतलब है कि चौथी और 89वीं शताब्दी ईस्वी के बीच निरंतर बसावट मौजूद थी।

अधिकारियों ने आगे कहा कि जो सिक्के मिले हैं वे श्री-हा प्रकार के इंडो-सासैनियन सिक्के हैं और 7वीं सी के थे। दूसरी ओर कलाकृतियां गुप्त काल के बाद के थे। प्राप्त ईंटों से पता चलता है कि वे कुषाण युग की थीं। पुरातत्वविद् ने कहा कि स्थल से वनस्पति की निकासी के बाद ही साइट के वास्तविक कालक्रम का पता चलेगा।

प्राचीन हिंदू शास्त्रों में पौराणिक नदी सरस्वती का उल्लेख मिलता है। इसका अस्तित्व कई लोगों के लिए वैज्ञानिक जिज्ञासा का विषय रहा है। हरियाणा के किरमच गांव का मानना है कि यह 5,000 साल पहले अस्तित्व में था, लेकिन भौगोलिक विकास और भूकंप के कारण भूमिगत हो गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *