Politics

मालवा की विधानसभा सीटों पर कांग्रेस का फोकस, इंदौर के बजाए इसलिए उज्जैन में रखी आमसभा

  • November 14, 2022
  • 1 min read
  • 21 Views
[addtoany]
मालवा की विधानसभा सीटों पर कांग्रेस का फोकस, इंदौर के बजाए इसलिए उज्जैन में रखी आमसभा

धार जिले की पांच सीटें आदिवासी बहुल्य है और कांग्रेस इन सीटों पर पिछले विधानसभा चुनाव की तरह कब्जा बरकरार रखना चाहती है। 

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा इस माह मध्य प्रदेश की सीमा में प्रवेश करेगी। किस जिले में कितने दिन यात्रा रुकेगी, कहां आम सभा होगी। इसका खाका तैयार हो रहा है। कांग्रेस भले ही यह कहे कि इस यात्रा को राजनीति से जोड़कर न देखे। यह यात्रा भारत जोड़ने के लिए निकाली जा रही है, लेकिन जिस तरह से यात्रा को लेकर फेरबदल हो रहे है। उससे साफ है कि यात्रा में राजनीतिक नफा नुकसान भी देखे जा रहे हैं। निमाड़ में खुद को कांग्रेस मजबूत मानकर चल रही है, इसलिए खरगोन जिले की विधानसभा सीटों के ज्यादा हिस्सों को यात्रा में शामिल नहीं किया गया है।

पहले यात्रा चोरल से सीधे यात्रा इंदौर आ रही थी, लेकिन उसमें महू को जोड़ा गया और चोरल के बजाए राहुल गांधी महू में ही रात्रि में ही विश्राम करेंगे। वे यहां बाबा साहेब आंबेडकर की जन्मस्थली पर भी जाएंगे। धार जिले की पांच सीटें आदिवासी बहुल्य है और कांग्रेस इन सीटों पर पिछले विधानसभा चुनाव की तरह कब्जा बरकरार रखना चाहती है, इसलिए राहुल महू क्षेत्र को ज्यादा समय दे रहे है।

इंदौर मालवा निमाड़ क्षेत्र का सबसे बड़ा शहर है और ज्यादातर बड़ी राजनीतिक आमसभाएं इंदौर में होती है, लेकिन इस बार राहुल गांधी की आम सभा के लिए इंदौर के बजाए उज्जैन को चुना गया है, ताकि उज्जैन की छह सीटों पर भी कांग्रेस को अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में राजनीतिक लाभ मिल सके। फिलहाल छह में से तीन सीटें कांग्रेस के पास है। इंदौर में सिर्फ नुक्कड सभा होगी। राहुल गांधी पहले खालसा स्टेडियम रुकने वाले थे, लेकिन अब उस स्थान को बदलने की कवायद चल रही है।

मध्य प्रदेश में यात्रा रोक गुजरात नहीं जाएंगे राहुल

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा इस माह मध्य प्रदेश की सीमा में प्रवेश करेगी। किस जिले में कितने दिन यात्रा रुकेगी, कहां आम सभा होगी। इसका खाका तैयार हो रहा है। कांग्रेस भले ही यह कहे कि इस यात्रा को राजनीति से जोड़कर न देखे। यह यात्रा भारत जोड़ने के लिए निकाली जा रही है, लेकिन जिस तरह से यात्रा को लेकर फेरबदल हो रहे है। उससे साफ है कि यात्रा में राजनीतिक नफा नुकसान भी देखे जा रहे हैं। निमाड़ में खुद को कांग्रेस मजबूत मानकर चल रही है, इसलिए खरगोन जिले की विधानसभा सीटों के ज्यादा हिस्सों को यात्रा में शामिल नहीं किया गया है।

यूपी छात्र बलात्कार के बाद मर जाता है, आरोपी पुलिस को बताता है कि उसने ऊर्जा बढ़ाने वाली गोली ली है

Read More…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *