Uncategorized

गडबड़ी : छोटे-छोटे भवनों में चल रही शिक्षा की दुकान, न बैठने की जगह, न मैदान

  • October 21, 2022
  • 1 min read
  • 35 Views
[addtoany]
गडबड़ी : छोटे-छोटे भवनों में चल रही शिक्षा की दुकान, न बैठने की जगह, न मैदान

भूपेन्द्र सिंह, इंदौर. मोटी फीस वसूलने वाले कई स्कूल नियमों को ताक पर रखकर संचालित हो रहे हैं। मान्यता नियमों के खिलाफ छोटे-छोटे भवनों में स्कूल लग रहे हैं। इनमें न तो खेल मैदान हैं, न बच्चों को बैठाने की पर्याप्त जगह है। स्कूल संचालकों और शिक्षा विभाग की मिलीभगत से गली-मोहल्लों में 600 से 800 वर्ग फीट के भवनों में स्कूल चल रहे हैं।

हाल ही में बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य ब्रजेश चौहान और जिला शिक्षा अधिकारी विजय नगर क्षेत्र के एक स्कूल पहुंचे थे। यहां खेल मैदान नहीं होने के साथ कई अनियमितताएं मिली थीं। ऐसी बदइंतजामी सैकड़ों स्कूलों में हैं।

मान्यता नवीनीकरण का मुद्दा इस बार गर्माया था। स्कूल संचालकों ने बीआरसी राजेन्द्र तंवर पर मान्यता में लेनदेन का आरोप लगाया था। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के दो कर्मचारियों की कई बार शिकायत मिलने के बाद कलेक्टर ने हटाया। इस साल 8वीं कक्षा तक के लिए 1806 ने मान्यता आवेदन दिए गए हैं।

इन क्षेत्रों में ज्यादा टूटते हैं नियम चंदन नगर, द्वारकापुरी, प्रजापत नगर, हवा बंगला, कालानी नगर, राजनगर, मरीमाता, छोटा बांगड़दा, बाणगंगा, परदेशीपुरा, भागीरथपुरा, आजाद नगर, मालवा मिल, माणिकबाग, जूनी इंदौर, पलहर नगर, नगीन नगर, हुकमचंद कॉलोनी, इंद्रा नगर, धार रोड, एरोड्रम रोड, रिंग रोड।

जिम्मेदार चुप जिला शिक्षा अधिकारी मंगलेश कुमार व्यास: मान्यता देने की मुख्य जिम्मेदारी इन्हीं की है। इनकी निगरानी में ही पूरी प्रक्रिया होती है। नियमों को पूरा नहीं करने वाले स्कूलों को भी मान्यता दी जा रही है। न तो औचक निरीक्षण हो रहा है, न ही कार्रवाई। व्यास इस मामले में कुछ भी कहने से बच रहे हैं।

11 साल बाद पूंछ पर बीजेपी, ममता बनर्जी ने बदला गियर बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का कहना है

Read More…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *