मनोरंजन

Diwali 2022: मेड इन चाइना का बोलबाला खत्म, डिजिटल झालरों से सजेंगे घर, ये हैं दाम

  • October 18, 2022
  • 1 min read
  • 48 Views
[addtoany]
Diwali 2022: मेड इन चाइना का बोलबाला खत्म, डिजिटल झालरों से सजेंगे घर, ये हैं दाम

भोपाल। दीपावली जैसे-जैसे नजदीक आ रही है बाजार और जगमग होते जा रहे हैं। दीपावली की रोशनी के लिए दुकानें रंग-बिरंगी लाइट्स से सज गई हैं। इस बार इलेक्ट्रिक दीया, कमल का बल्ब, ओम, गोल्डन लटकन, बटर फ्लाई, भगवान की लडिय़ां ग्राहकों को खूब आकर्षित कर रही हैं।

खास बात ये है कि इस बार बाजार में चाइनीज माल न के बराबर है। जिन दुकानदारों के पास पुराना माल बचा है उसे बेच रहे हैं। बाजार में मेड इन इंडिया झालरों का बोलबाला है। इस बार दिल्ली, इंदौर, जबलपुर, और अहमदाबाद से भारी संख्या में डेकोरेटिव आइटम बाजारों में आए हैं।

सबके आकर्षण का केंद्र बनीं ज्योति घंटा और ज्योति लड़ी खूब बिक रही हैं। ग्राहक लेजर लाइट से बने अलग-अलग आकृतियों की लाइटिंग मशीनों को तव्वजो दे रहे हैं। साथ ही इलैक्ट्रिक दीप मालाएं, रोप लाइट्स झालरें, म्यूजिकल झालरें, टमाटर झालरें, मकड़ी के जाल झालरें, डांसिंग झालरें आदि ट्रेंड में हैं। दुकानदारों ने बताया कि लोग रेडीमेड दीपकों वाली झालरें सबसे अधिक पंसद कर रहे हैं।

11 हजार की एलइडी में हैं 180 बल्ब

बाजार में रिमोट कंट्रोल से चलने वाली डिजिटल लाइटिंग खूब पसंद की जा रही है। थोक विक्रेताओं के अनुसार बाजार में 40 रुपए से लेकर 11 हजार रुपए तक की लाइटें मौजूद हैं। सीरीज से लेकर लाइट्स की कई वैरायटियां मौजूद हैं। घोड़ा नक्कास में लाइटिंग के थोक विक्रेता आरआर इलेक्ट्रिकल के रीतेश जैन ने बताया कि इस बार अनेक वैरायटियों की लाइट्स मौजूद हैं। सीरीज 40 रुपए से शुरू है, जो अलग-अलग क्वालिटी के आधार पर है। इसी प्रकार वाटरप्रूफ लाइटें भी हैं कीमत 1800 रुपए तक है। वहीं रोप लाइट्स भी है, इसकी कीमत 11 हजार रुपए तक है। इसकी खासियत यह है कि यह लैंस एलइडी है। इसमें 180 बल्ब हैं। इसी प्रकार वायरलैस लाइट सहित लाइट की कई वैरायटियां मौजूद हैं। इस बार लोग वाटरप्रूफ लाइट भी ज्यादा पसंद कर रहे हैं।

देशी लाइट्स आई अहमदाबाद से

लाइट विक्रेता अनिल चावला ने बताया कि लाइटिंग के लिए लोग सीरीज ले जाते हैं। यह 50 रुपए से लेकर 200 रुपए तक में मौजूद है। यह पूरी तरह से देशी है। ये लाइटस अहमदाबाद से आती हैं। इस बार बाजार में लगभग 80 प्रतिशत लाइट देश में बनी हुई हैं। ग्राहक भी देशी लाइटिंग अधिक पसंद कर रहे हैं।

इंदौर पुलिस ने सड़कों पर हेलमेट अनिवार्य किया, पालने वालों को लाल गुलाब भेंट किया

Read More…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *