Uncategorized

राष्ट्रीय युवा दिवस 2022: स्वामी विवेकानंद जयंती पर तिथि, इतिहास और राष्ट्रीय युवा दिवस क्यों मनाया जाता है?

  • January 12, 2022
  • 1 min read
  • 211 Views
[addtoany]
राष्ट्रीय युवा दिवस 2022: स्वामी विवेकानंद जयंती पर तिथि, इतिहास और राष्ट्रीय युवा दिवस क्यों मनाया जाता है?

राष्ट्रीय युवा दिवस 2022: “मनुष्य का जन्म प्रकृति पर विजय पाने के लिए हुआ है न कि उसका पालन करने के लिए” – दार्शनिक स्वामी विवेकानंद का यह उद्धरण आज भी हर उस व्यक्ति के कानों में गूंजता है जो अपने निडर रवैये से किसी भी कठिनाई को दूर करना चाहता है। स्वामी विवेकानंद के जीवन और शिक्षाओं ने दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रोत्साहित किया है।

1985 में, भारत सरकार ने स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन – 12 जनवरी – को महान दार्शनिक और भिक्षु के सम्मान में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में घोषित किया। 1985 से, इस दिन को पूरे भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

जैसा कि आज हम स्वामी विवेकानंद की जयंती पर राष्ट्रीय युवा दिवस मनाते हैं, आइए उन्हें और उनकी शिक्षाओं को याद करें जिन्होंने हमारे जीवन को अच्छे के लिए बदल दिया:

स्वामी विवेकानंद का जन्म नरेंद्रनाथ दत्ता का जन्म 12 जनवरी, 1863 को कोलकाता, पश्चिम बंगाल में हुआ था। उनका रुझान हमेशा अध्यात्म की ओर था। उन्होंने बहुत कम उम्र से ध्यान का अभ्यास किया और एक निश्चित अवधि के लिए ब्रह्म समाज आंदोलन में भी शामिल हो गए। सबसे महान देशभक्तों में से एक, उन्हें वेदांत और योग के भारतीय दर्शन को पश्चिमी दुनिया में पेश करने का श्रेय भी दिया जाता है।

यद्यपि वह अपने पिता, श्री रामकृष्ण के निधन से तबाह हो गए थे, उन्होंने भारत के हर हिस्से का पता लगाने और खोजने के लिए एक लंबी यात्रा शुरू की।

A true Karma Yogi, Swami Vivekananda had full faith in the youth of this country. (Representative Image: Shutterstock)

एक सच्चे कर्मयोगी, उन्हें इस देश के युवाओं पर पूरा भरोसा था। उनका दृढ़ विश्वास था कि युवा अपनी कड़ी मेहनत, समर्पण और आध्यात्मिक शक्ति के माध्यम से भारत के भाग्य को बदल सकते हैं।

युवाओं के लिए उनका संदेश था, “मैं जो चाहता हूं वह लोहे की मांसपेशियां और स्टील की तंत्रिकाएं हैं, जिसके अंदर उसी सामग्री का दिमाग रहता है जिससे वज्र बनता है।” इस तरह के संदेशों के माध्यम से उन्होंने युवाओं में बुनियादी मूल्यों को स्थापित करने की कामना की।

आत्मविश्वासी व्यक्तित्व

उन्होंने हमेशा युवाओं को आत्मविश्वासी रवैया रखने के लिए प्रेरित किया। इसके पीछे का कारण – जीवन में आने वाली चुनौतियों से लोग हमेशा डरते रहते हैं जब उन्हें खुद पर भरोसा नहीं होता है।

आशावादी रवैया

स्वामी विवेकानंद का मानना था कि जो कुछ भी हमें आध्यात्मिक, शारीरिक या मानसिक रूप से कमजोर बनाता है, उसे जहर की तरह खारिज कर देना चाहिए। योग और ध्यान की मदद से कमजोर विचारों को आशावाद से बदला जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.