Culture

UP में अब स्कूल शुरू होने के 15 मिनट पहले और बंद होने के 30 मिनट बाद तक रुकेंगे टीचर, पढ़ लें पूरे दिशा-निर्देश

  • November 4, 2022
  • 1 min read
  • 36 Views
[addtoany]
UP में अब स्कूल शुरू होने के 15 मिनट पहले और बंद होने के 30 मिनट बाद तक रुकेंगे टीचर, पढ़ लें पूरे दिशा-निर्देश

UP Schools: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने प्रदेश के बेसिक स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। दरअसल शासन को रिपोर्ट मिली है कि विद्यालयों में शैक्षणिक कार्यों के लिए समयावधि और काम के बंटवारे को लेकर जो व्यवस्था चल रही है, वो संतोषजनक नहीं है।

लखनऊ: परिषदीय विद्यालयों में निर्धारित शिक्षण अवधि में कोई भी शिक्षक विद्यालय प्रांगण से बाहर नहीं रहेगा। शिक्षक शिक्षण अवधि से 15 मिनट पहले विद्यालय में उपस्थित होंगे एवं शिक्षण अवधि के बाद कम से कम 30 मिनट उपस्थित रहकर पंजिका तथा अन्य अभिलेख अपडेट करेंगे और अगले दिन की कक्षा शिक्षण की रूपरेखा तैयार करेंगे। यही नहीं साप्ताहिक कैलेंडर का शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा। यदि शैक्षिक कैलेंडर में निर्धारित टाइम टेबल का पालन नहीं किया जा सका है तो इसके लिए एक्स्ट्रा क्लास की व्यवस्था की जाएगी।

इसके अलावा, शैक्षणिक कार्य अवधि में रैली, प्रभात फेरी, मानव श्रृंखला और गोष्ठी का आयोजन नहीं होगा। छात्रों के पठन-पाठन को लेकर सजग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को इसे अमल में लाने का निर्देश दिया गया है। महानिदेशक, स्कूल शिक्षा विजय किरण आनंद की ओर से दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं इसमें कहा गया है कि टाइम एंड मोशन स्टडी के आधार पर विद्यालयों में शैक्षणिक कार्यों के लिए समय अवधि एवं कार्य निर्धारण को लेकर की जा रही कार्यवाही संतोषजनक नहीं है। ऐसे में सभी बेसिक शिक्षा अधिकारी अपने जनपद में इसका पालन कराएं।

20 नवंबर तक मांगी रिपोर्ट
डीजी, स्कूल शिक्षा विजय किरण आनंद ने प्रदेश के सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों से स्कूलों में पढ़ाई के घंटे समेत सभी शैक्षणिक कार्यों के लिए निर्धारित समय-सारिणी के पालन के संबंध में 20 नवंबर तक रिपोर्ट मांगी है। शासनादेश में प्रत्येक शैक्षिक सत्र में 240 शिक्षण दिवस का संचालन किया जाना अनिवार्य है। इसी तरह नि:शुल्क पाठ्य पुस्तक वितरण, डीबीटी एवं अन्य किसी भी सामग्री के वितरण का कार्य विद्यालय अवधि के बाद ही किए जाने के निर्देश दिए गए हैं।

निर्देश दिया गया है कि विद्यालयों में शैक्षणिक कार्य की अवधि में रैली, प्रभात फेरी, मानव श्रृंखला और नवाचार गोष्ठी का आयोजन भी नहीं हो सकेगा। इस दौरान शिक्षकों से किसी भी विभाग का हाउस होल्ड सर्वे भी नहीं कराया जाएगा। विद्यालयों में शिक्षकों के गैरहाजिर मिलने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और वेतन भी कटेगा। शिक्षकों को राज्य परियोजना कार्यालय और एससीईआरटी के प्रशिक्षणों में शामिल होना होगा। जिला या विकासखंड स्तर पर बीएसए या खंड शिक्षा अधिकारी किसी भी प्रकार का प्रशिक्षण आयोजित नहीं करेंगे। अनाधिकृत प्रशिक्षण आयोजित करने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। निशुल्क पाठ्यपुस्तक सहित अन्य सामग्री का वितरण शिक्षण अवधि के बाद ही किया जाएगा। परिषदीय शिक्षकों को जिला प्रशासन, बीएसए दफ्तर और खंड शिक्षा अधिकारी दफ्तर में संबद्ध नहीं किया जाएगा।

दोस्‍त की बीवी से तमंचे की नोक पर रेप, धमकाकर महीनों बनाता रहा संबंध; ऐसे खुला राज

Read More…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *