Uncategorized

सीमांकन किया जा चुका:बेड़िया में 11.45 कराेड़ से बनने वाले काॅलेज काे लेकर विराेध, ग्रामीण बाेले- सेल्दा में बनाएं

  • October 7, 2022
  • 1 min read
  • 64 Views
[addtoany]
सीमांकन किया जा चुका:बेड़िया में 11.45 कराेड़ से बनने वाले काॅलेज काे लेकर विराेध, ग्रामीण बाेले- सेल्दा में बनाएं

एनटीपीसी सेल्दा में दाभड़ रोड पर सिलावटपुरा हनुमान मंदिर के पास 11 करोड़ 45 लाख रुपए की लागत से बनने वाले प्रस्तावित आईटीआई कॉलेज का निर्माण किया जाना है। इसे लेकर पटवारी द्वारा सीमांकन किया जा चुका है लेकिन गुरुवार को इसे लेकर ग्रामीणों ने विरोध प्रदर्शन किया। आईटीआई कॉलेज का निर्माण बेड़िया में करने की जानकारी मिलने पर बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने आक्रोश व्यक्त करते एनटीपीसी गेट के पास नारेबाजी करते हुए रैली निकाली। साथ ही मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर आईटीआई कॉलेज का निर्माण भू प्रभावित ग्राम सेल्दा बालाबाद में करने की मांग की।

भू-प्रभावित ग्राम पंचायत सेल्दा बालाबाद के ग्रामीणों ने बताया आईटीआई काॅलेज का निर्माण एनटीपीसी की आर एंड आर व पुनर्वास नीति के तहत भू प्रभावित ग्राम सेल्दा बालाबाद में होना था लेकिन एनटीपीसी व शासन की मिलीभगत से आईटीआई कॉलेज का निर्माण बेड़िया में किया जा रहा है। भू प्रभावित ग्रामीणोें द्वारा पिछले 3 से 4 वर्षों से लगातार आवेदन व निवेदन किया जा रहा है। लेकिन हर बार झूठा आश्वासन ही मिलता रहा है।

आईटीआई कॉलेज का निर्माण शासकीय भूमि में भू प्रभावित ग्राम जाएगा लेकिन सेल्दा बालाबाद में नहीं किया जा रहा। भू प्रभावित ग्रामीणों के साथ एनटीपीसी व शासन द्वारा छल कर आईटीआई कॉलेज का स्थान परिवर्तन किया जा रहा है। भू प्रभावित ग्राम सेल्दा बालाबाद, डालची, खेड़ीबुजुर्ग, उमरिया, उमड़धड़, भोपाड़ा, कामोदवाड़ा, जामनिया, आरसी, झिरनिया, जुलवानिया, दाभड़ सहित अन्य गांवों के लोगों ने मांग करते हुए कहा- आईटीआई कॉलेज का निर्माण सेल्दा बालाबाद में किया जाए।

यदि शासन प्रशासन व एनटीपीसी द्वारा 8 दिनों में इस समस्या का निराकरण नहीं किया गया तो ग्रामीणों द्वारा एनटीपीसी के गेट नंबर 1 पर भूख हड़ताल की जाएगी। इसकी जवाबदारी शासन प्रशासन के साथ एनटीपीसी की रहेगी। इस दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

बड़वाह | स्थानीय जवाहरलाल नेहरू शासकीय महाविद्यालय बड़वाह में नवनियुक्त जनप्रतिनिधियों का परिचय सम्मेलन हुआ। इसमें महाविद्यालय के नए भवन निर्माण स्थल के चयन व पुराने भवन के संरक्षण के लिए चर्चा की गई। साथ ही छात्रों की बढ़ती हुई संख्या और उनके बैठने की व्यवस्थाएं सम्मेलन के लिए नए ऑडिटोरियम व स्टेडियम के लिए भी चर्चा की गई। इसमें विभिन्न पदाधिकारियों ने अपने-अपने विचार रखे। डॉ. अरविंद श्रीवास्तव ने पुराने भवन के बारे में ऐतिहासिक जानकारी व सुझाव मांगे।

शासकीय अस्पताल के सांसद प्रतिनिधि अशोक तिवारी ने गुणवत्ता के बारे में बताते हुए कॉलेज को विकास के रास्ते पर ले जाने के लिए सुझाव दिए। सांसद कार्यालय प्रभारी ब्रजेश यादव ने बताया की पुराने भवन के स्थान पर नया भवन बनाया जाए। कृषि उपज मंडी के सांसद प्रतिनिधि यशवंत यादव, पार्षद गणेश पटेल, युवा सेल सांसद प्रतिनिधि ऐश्वर्य उमड़ेकर ने भी अपने विचार रखे। युवा सेल विधायक प्रतिनिधि रोहित डालुका ने कॉलेज में केंटीन बनाने का प्रस्ताव रखा।

शांतिलाल खंडेलवाल ने कहा- पुराने भवन में लगे शिलालेख को नए भवन में लगाया जाए। एनएस सोलंकी व श्याम शर्मा ने भवन के पीछे स्टेडियम बनाने का सुझाव दिया। नगर पालिका उपाध्यक्ष राजेश जायसवाल ने कहा- मुख्यमंत्री का सोचना है कि प्रत्येक महाविद्यालय में एक युवा सेल बनाया जाए, जो विद्यार्थियों को नई ऊर्जा देती रहे। जब भी जनप्रतिनिधि आए तो उन्हें नए भवन के साथ-साथ स्टेडियम व ऑडिटोरियम का भी प्रस्ताव दिया जाए। डॉ. मंगला ठाकुर ने अध्यक्षीय भाषण देते हुए जनप्रतिनिधियों से महाविद्यालय स्तर पर पद संख्या बढ़ाने की बात कही। इस दौरान डॉ. राजेश पेंढारकर, जनप्रतिनिधि सहित महाविद्यालय स्टाफ मौजूद था।

पार्टी का नाम बदलने के लिए कांग्रेस, बीजेपी ने केसीआर की खिंचाई की, असदुद्दीन ओवैसी ने इस कदम का स्वागत किया

Read More…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *