Politics

बीरभूम में तृणमूल नेता की हत्या से भड़की हिंसा, आगजनी; राज्यपाल ने मुख्य सचिव से मांगी रिपोर्ट 

  • March 23, 2022
  • 1 min read
  • 79 Views
[addtoany]
बीरभूम में तृणमूल नेता की हत्या से भड़की हिंसा, आगजनी; राज्यपाल ने मुख्य सचिव से मांगी रिपोर्ट 

बम हमले में पंचायत पदाधिकारी की मौत, लेकिन डीजीपी ने राजनीतिक मकसद से किया इनकार, राज्य सरकार ने बनाई एसआईटी; रामपुरहाट के बक्तुई में 10 जले हुए शव बरामद; धनखड़ ने कहा कि बंगाल में कानून-व्यवस्था चरमरा गई है

सोमवार की रात बीरभूम गांव में तृणमूल पंचायत के एक पदाधिकारी की हत्या ने हिंसा का एक तांडव छेड़ दिया, जिसमें मंगलवार सुबह दमकल विभाग द्वारा सात जले हुए शवों के साथ कम से कम 10 और लोगों की जान चली गई।

रामपुरहाट के बक्तुई की घटनाएँ बंगाल के हाल के इतिहास में अभूतपूर्व हैं। वाममोर्चा सरकार के अंतिम कार्यकाल में हुई हिंसक मौतों ने वापसी की है। सोमवार की रात बक्तुई गई दमकल की गाडिय़ों ने बीती रात तीन शव बरामद किए, जबकि शेष सात आज सुबह मिले।

ग्यारह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। लेकिन, पुलिस और तृणमूल कांग्रेस दोनों ने घटनाओं के पीछे राजनीतिक मंशा से इनकार किया है। बंगाल सरकार ने हिंसा की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया है।

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने हिंसा की निंदा की है और कहा है कि बंगाल में कानून-व्यवस्था “ढीला” हो गई है।

स्थानीय नेताओं ने दावा किया कि मरने वालों में छह महिलाएं और दो बच्चे हैं। राज्य के पुलिस महानिदेशक मनोज मालवीय ने कहा, आगजनी के पीछे कोई राजनीतिक मकसद अभी तक स्थापित नहीं किया जा सका है।

सोमवार की शाम बरशाल ग्राम पंचायत के उपप्रधान भादू शेख पर देसी बम फेंक कर जान से मारने का प्रयास किया गया. घायल शेख को स्थानीय स्वास्थ्य क्लिनिक और बाद में रामपुरहाट अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

स्थानीय रिपोर्टों के अनुसार, हालांकि, शेख की हत्या गांव पर एक शातिर हमले में बदल गई। सोमवार की देर रात कई घरों में आग लगा दी गई।

मालवीय ने कहा, ‘एक परिवार के सात लोग मारे गए। एक अन्य व्यक्ति ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। अब तक 11 गिरफ्तारियां की जा चुकी हैं। हम घटना के पीछे कोई राजनीतिक मकसद स्थापित नहीं कर पाए हैं। व्यक्तिगत दुश्मनी संभावित कारण हो सकती है। एसआईटी का गठन इस बात की जांच के लिए किया गया है कि क्या (भादु शेख की) हत्या के बाद ग्रामीणों ने घरों में आग लगा दी।’

राज्यपाल धनखड़ ने मुख्य सचिव एचके द्विवेदी से तत्काल रिपोर्ट मांगी है। एक वीडियो संदेश में, धनखड़ ने कहा, “रामपुरहाट में भयानक बर्बरता से काफी दुखी और परेशान हूं, कि डीजीपी के अनुसार पहले ही आठ लोगों की जान जा चुकी है। यह राज्य में कानून-व्यवस्था के चरमराने का संकेत है। मैंने कई मौकों पर इस बात पर जोर दिया है कि हम राज्य को हिंसा की संस्कृति और अराजकता का पर्याय नहीं बनने दे सकते। प्रशासन को पक्षपातपूर्ण हितों से ऊपर उठने की आवश्यकता है जो सवालों के बावजूद वास्तविकता में परिलक्षित नहीं हो रहा है। मैं पुलिस और सरकार से इन पहलुओं पर सतर्क रहने, पेशेवर तरीके से मामले से निपटने का आह्वान करता हूं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.